गुजरे जमाने की वो बोल्ड अदाकारा जिसने फिल्मों में अपने हुस्न की छाप छोड़ी।

0
12

तौफीक़ हयात
सत्तर-अस्सी दशक जमाने की हीरोइन परवीन बाबी की आज 68 वीं बर्थ एनिवर्सरी है। उनका जन्म 4 अप्रैल, 1954 को जूनागढ़ में हुआ था। परवीन बाबी का जन्म एक मुस्लिम परिवार में हुआ था।
परवीन ने अपने करियर में एक से बढ़कर एक फिल्मों में काम किया। जितनी कामयाबी उन्हें अपने करियर में मिली उतनी सफलता वे अपनी पर्सनल लाइफ में हासिल नहीं कर पाई। उनके 3-3 लोगों से अफेयर्स रहे लेकिन रिश्ता किसी के साथ भी नहीं बन पाया। वे अपनी जिंदगी में हमेशा सच्चे प्यार को तलाशती रहे है लेकिन किस्मत को कुछ और ही मंजूर था। वैसे, आपको बता दें कि बॉलीवुड फिल्मों में बोल्डनेस का तड़का लगाने का श्रेय परवीन को ही जाता है। उन्हें फिल्मों में कदम रखते ही पूरा ट्रेंड बदलकर रख दिया था
कैसे शुरू हुआ परवीन बाबी का फिल्मों में करियर
स्कूल की पढ़ाई पूरी करने के बाद परवीन ने सेंट जेवियर्स कॉलेज अहमदाबाद में दाखिला ले लिया। कॉलेज में वे मिनी स्कर्ट और हाथ में सिगरेट लिए अक्सर नजर आती थी। एक बार फिल्ममेकर बीआर इशारा की नजर उनपर पड़ी। उस जमाने में परवीन बाबी का इतना बोल्ड अंदाज बीआर इशारा दंग रहे गए। उन्होंने तुरंत परवीन बाबी से कॉन्टैक्ट किया और अपनी फिल्म चरित्र में काम करने का ऑफर दिया। परवीन भी काम करने को मान गई। 1973 में आई परवीन बाबी की पहली फिल्म चरित्र तो नहीं चली लेकिन फिल्म मे उनका बोल्ड अंदाज देख उनकी किस्मत बदल गई। उनके इसी अंदाज की वजह से हर डायरेक्टर उन्हें अपनी फिल्म में लेने के लिए उतावला हो गया। परवीन बाबी ने 36 घंटे, दीवार, अमर अकबर एंथोनी, शान, कालिया, काला सोना, रंगीला रतन, मामा भांजा, सुहाग, काला पत्थर, द बर्निंग ट्रेन, एक और एक ग्यारह, क्रांति, खून और पानी, देश प्रेमी, नमक लहाह, अर्पण, महान, जानी दोस्त जैसी फिल्मों में काम किया था।
परवीन बाबी की मौत कैसे हुई
परवीन बाबी ‘सिजोफ्रेनिया’ नाम की बीमारी की चपेट में आ चुकी थीं, जिसके चलते वो हर किसी को अपना दुश्मन मान बैठी। ये एक दिमागी बीमारी होती है, जिससे सामने वाला अपने आप-पास के लोगों और चीजों से अपनी जान को खतरा मान कर डरने लगता है और अकेले रहने का आदि हो जाता है। ऐसा ही परवीन के साथ हुआ। अकेलेपन और शराब की लत ने उनकी जान ले ली। बताया जाता है कि उनकी बॉडी एक दम सड़ चुकी थी, लेकिन फिर भी महेश भट्ट ने उनका अंतिम संस्कार करवाया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here