भारत का वो गोल्ड मेडलिस्ट,जिसने हिटलर के सामने पेश की देश भक्ति की मिसाल

0
50
मेजर ध्यानचंद
मेजर ध्यानचंद

Surgyan Maurya
KHIRNI

भारत में हर साल 29 अगस्त को राष्ट्रीय खेल दिवस के रूप में मनाया जाता है। इस दिन, पूरा देश विभिन्न खिलाड़ियों की उपलब्धियों पर खुशी मनाता है, और आज के दिन भारत के राष्ट्रपति द्वारा खिलाड़ियों को उनकी उपलब्धियों के लिए खेल रत्न, अर्जुन और द्रोणाचार्य पुरस्कार दिया जाता हैं।

लेकिन राष्ट्रीय खेल दिवस के पीछे कोई और नहीं बल्कि महान हॉकी खिलाड़ी मेजर ध्यानचंद हैं, जिन्हें अब तक का सबसे महान हॉकी खिलाड़ी माना जाता है।

‘हॉकी के जादूगर’ के रूप में जाने जाने वाले, वह अपने शानदार गोल स्कोरिंग कारनामों और गेंद के नियंत्रण पर अपनी महारत के लिए लोकप्रिय थे। चंद ने अपने अंतरराष्ट्रीय करियर में 400 से अधिक गोल किए और 1928, 1932 और 1936 में देश के लिए तीन ओलंपिक स्वर्ण पदक भी जीते।

उनके योगदान की सराहना करते हुए, भारत सरकार ने उन्हें 1956 में भारत के तीसरे सर्वोच्च नागरिक सम्मान, पद्म भूषण से सम्मानित किया। और जैसा कि हम इस वर्ष उनकी 114वीं जयंती मना रहे हैं, आइए हम आपको उनके बारे में विस्तार से बताते हैं।

The Wizard of Indian Hockey

भारतीय हॉकी के जादूगर इलाहाबाद, उत्तर प्रदेश में जन्मे, ध्यानचंद जब 17 साल के थे तब अपने पिता के नक्शेकदम पर चलते हुए ब्रिटिश भारतीय सेना में शामिल हो गए। सेना में शामिल होने के बाद वो हर शाम चांदनी की रोशनी में हॉकी के खेल का अभ्यास करते थे, इसलिए उनके दोस्त उन्हें ‘चाँद’ कहने लगे। 1922 से, उन्होंने हॉकी टूर्नामेंट और रेजिमेंटल मैचों में खेलना शुरू कर दिया।

मैदान पर ध्यानचंद के प्रदर्शन को देखते हुए, उन्हें न्यूजीलैंड में भारतीय सेना की टीम के लिए खेलने के लिए चुना गया । फिर जब वो वापस आए तो उन्हें लांस नायक के पद पर पदोन्नत किया गया । कुछ साल बाद, उन्हें ओलंपिक में भाग लेने का मौका मिला, और जहां उन्होंने अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन करते हुए, 1928 के एम्स्टर्डम ओलंपिक में 14 गोल, 1932 के लॉस एंजिल्स ग्रीष्मकालीन ओलंपिक में 12 गोल और 1936 के बर्लिन ओलंपिक में जर्मनी पर तीन हैट्रिक गोल के साथ हाई स्कोरर बने।

कहा जाता है कि जर्मन तानाशाह एडॉल्फ हिटलर ध्यानचंद के खेल से इतने प्रभावित हुए कि उन्होंने ध्यानचंद को जर्मन सेना में एक पद की पेशकश की। लेकिन उन्होंने देश भक्ति का परिचय देते हुए हिटलर के उस प्रस्ताव को ठुकरा दिया।

The end of illustrious career

1948 में ध्यानचंद ने हॉकी के खेल से दूर होने का फैसला किया। चंद का आखिरी मैच बंगाल के खिलाफ शेष भारत की टीम थी, जिसे उन्होंने एक गोल के साथ समाप्त किया। लेकिन हॉकी से उनका प्यार इतना ज्यादा था कि वो इससे खुद को पूरी तरह अलग नहीं कर पाए। उन्होंने कई वर्षों तक पटियाला में राष्ट्रीय खेल संस्थान में मुख्य हॉकी कोच का पद संभाला।

एक कोच के रूप में कार्य करने के बाद, उन्होंने खुद को लेखन से जोड़ लिया । और उन्होंने अपनी आत्मकथा – ‘गोल!’ शीर्षक से – 1952 में प्रकाशित की, ध्यानचंद 1956 में 51 साल की उम्र में मेजर के पद से सेना से सेवानिवृत्त हुए, और अपना शेष जीवन अपने गृहनगर झांसी में बिताने का फैसला किया। 3 दिसंबर 1979 को लीवर कैंसर के कारण चंद का निधन हो गया। हॉकी के जादूगर की मृत्यु के बाद ब्रिटिश सरकार ने लंदन में एक हॉकी पिच का नाम चांद के नाम पर रखा। भारत सरकार ने भी उनकी याद में 2002 में दिल्ली के नेशनल स्टेडियम का नाम बदलकर ध्यानचंद नेशनल स्टेडियम कर दिया। उन्होंने देश में खेलों में लाइफटाइम अचीवमेंट के लिए सर्वोच्च पुरस्कार के रूप में ध्यानचंद पुरस्कार की भी शुरुआत की। आज भी खेल के क्षेत्र में लोगों के योगदान को सम्मानित करने के लिए हर साल युवा मामले और खेल मंत्रालय द्वारा यह पुरस्कार दिया जाता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here