हरिदेव जोशी विश्वविद्यालय में छात्र प्रतिनिधियो ने तोड़े ताले

0
31

राजस्थान की राजधानी जयपुर की हरिदेव जोशी पत्रकारिता एवं जनसंचार विश्वविद्यालय के छात्रों ने यूनिवर्सिटी प्रशासन और सरकार के खिलाफ आवाज़ उठाई। मंगलवार, दिनांक 10 जनवरी को अपनी मांगों को लेकर बड़ी संख्या में छात्रों ने विश्वविद्यालय कैंपस में विरोध प्रदर्शन कर प्रशासनिक भवन पर ताला लगा दिया है। छात्रों का कहना है कि जब तक प्रशासन उनकी वाजिब मांगों को पूरा नहीं करेगी। छात्र धरने पर बैठे रहेंगे।

हरिदेव जोशी यूनिवर्सिटी के छात्र संघ अध्यक्ष ने कहा कि 3 साल से ज्यादा का वक्त गुज़र चुका है लेकिन अब तक यूनिवर्सिटी में छात्रों के बैठने तक की व्यवस्था नहीं है। इस डिजिटल युग में यूनिवर्सिटी में बेकार और खराब कंप्यूटर रखे हैं। जिनमें वीडियो, ऑडियो एडिटिंग के सॉफ्टवेयर भी उपलब्ध नहीं है।

Joshi

इसके साथ ही विश्वविद्यालय का प्लेसमेंट सेल पूरी तरह से निष्क्रिय है। जिसकी वजह से 3 साल में किसी भी स्टूडेंट को यूनिवर्सिटी से प्लेसमेंट नहीं मिल पाया है। ऐसे में जब तक यूनिवर्सिटी प्रशासन मांगों पर कोई एक्शन नहीं लेगा, छात्र इसी तरह से धरने पर बैठे रहेंगे।

यूनिवर्सिटी की छात्र संघ उपाध्यक्ष का कहना है कि कैंपस में छात्रों को पीने के पानी की व्यवस्था नहीं है। ऐसे में यूनिवर्सिटी प्रशासन जब तक मांगों को पूरा नहीं करेगा। आंदोलन इसी तरह से जारी रहेगा।

विपक्ष छात्र प्रतिनिधियों का कहना है कि सारी मांगे वीसी कार्यालय जाकर करना चाहिए। शुरुआत में सब एक साथ थे लेकिन समय बीतता गया तो विपक्ष भी अलग होता गया। विपक्ष का एक खास मुद्दा था कि एग्जामिनेशन फॉर्म जमा कराने की आज आखिरी तारीख है, ऐसे में जब बातचीत से कोई हल नहीं निकला तो परिणाम स्वरुप विपक्ष छात्र प्रतिनिधियो को ताला तोड़ना पड़ा।

विपक्ष छात्र प्रतिनिधियो का कहना है की गलत जगह पर आप डिमांड कर रहे हैं आप वीसी ऑफिस जाएंगे तो हम लोग भी आपके साथ चलेंगे लेकिन सुबह कुछ ऐसा ही हुआ शुरुआत में सभी एक साथ थे लेकिन जैसे-जैसे टाइम बिता गया विपक्ष अलग होता गया विपक्ष में कुछ मुद्दा ऐसे थे कि रुका हुआ काम अटका जो एग्जामिनेशन फॉर्म है उसकी लास्ट डेट आज से तो इन मुद्दों के पहले उन्होंने बातचीत करी आपस में लेकिन इसका कोई परिणाम नहीं निकला और इसका परिणाम स्वरूप उन्हें छात्र प्रतिनिधियों को ताला तोड़ना पड़ा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here