गोल्ड में मेडल जीतने से चूकीं अदिति- चौथे स्थान पर रहकर खत्म किया टोक्यो ओलंपिक का सफर

0
39

चार में से तीन राउंड तक रहीं दूसरे स्थान पर, चौथे राउंड में 1 स्ट्रोक से छूटा मेडल

संध्या देवी
चित्रकूट। जहां गोल्फ में इतिहास रचने की उम्मीद लगाई जा रही थी आज वहीं भारत को निराशा मिली है। गोल्फर अदिति अशोक पदक जीतने से चूक गई। उन्होंने टोक्यो में अपना अभियान चौथे स्थान पर रहकर खत्म किया।

गोल्फ में महिलाओं की व्यक्तिगत स्पर्धा में तीन तीसरे राउंड तक अदिति अशोक दूसरे नंबर पर रही। चौथा व अंतिम राउंड अदिति के लिए अनुकूल नहीं रहा। आदिति ने 16 में होल पर पार बनाया पर न्यूजीलैंड की लीडिया ने 17वें होल में बर्डी लगाकर अदिति से आगे निकल गयीं। जिसके साथ अदिति चौथे स्थान पर रही और लीडिया ने बढ़त बनाकर तीसरा स्थान कायम रखा। अमेरिका की नेली कोर्डा दूसरे और जापान की इनामी मोने पहले स्थान पर रहीं| 18वें होल पर अदिति बर्डी बनाकर मेडल जीत सकतीं थी क्योंकि इससे पहले लीडिया वर्दी का मौका गवां चुकी थी। अदिति अगर एक स्ट्रोक में बॉल होल में डाल देती तो गोल्फ में मेडल जीतकर इतिहास रचने वाली पहली खिलाडी होतीं परंतु ऐसा नहीं हुआ और चौथे स्थान पर रहकर उन्होंने अपना सफर खत्म किया।

महिला इंडिविजुअल स्ट्रोक प्ले में अदिति चौथे स्थान पर रहीं वहीं अमेरिका की नेली कोर्डा पहले , जापान की इनामी मोने दूसरे तथा न्यूजीलैंड की लीडिया तीसरे स्थान पर रहीं।अदिति अगर जीतती तो गोल्फ में मेडल जीतने वाली भारत की पहली खिलाड़ी होती लेकिन वह मौका चूक गई। रियो ओलंपिक में 41वे स्थान पर रहीं आदिति ने टोक्यो ओलंपिक में पूरे 4 दिन के मैच के दौरान अपना जबरदस्त प्रदर्शन किया और लगातार दूसरे स्थान पर बनी रहीं।अपनी लगन व तपस्या के कारण ओलंपिक में आख़िरी समय तक पदक की रेस में बने रहने व उनके शानदार प्रदर्शन करने के लिए उनकी जमकर तारीफ की जा रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here