अपाहिज होने का नाटक कर भीख मांगने वालों का कच्चा चिट्ठा

    0
    110

    सुरज्ञान मौर्य

    आम तौर पर आपने देखा होगा कि ट्रैफिक सिग्नल पर सड़क के किनारे पर या शहर में कहीं पर भी हमें भीख मांगते हुए भिखारी नज़र आ जाते हैं. जैसे ही आपकी गाड़ी कहीं पर रूकती है तुरंत कुछ भिखारी आपको घेर लेते हैं, जिन पर हमको रहम आ जाता है. ये लोग तब तक भीख मांगते रहते है जब तक कि हम उनको कुछ दे नहीं देते.

    तो आज हम कुछ तथाकथित नकली भिखारियों की पोल खोलने जा रहे हैं जो कि अपने अपाहिज होने का नाटक करके ना केवल खुद को बल्कि पूरे समाज को धोखा दे रहे हैं. ऐसे में उन गरीब लोगों का सबसे ज्यादा नुकसान होता है जो वास्तव में कुछ नहीं कर पाते और भिखारी हैं. इन नकली भिखारियों के चलते जनता यह समझती है कि सब सवाली नाटक कर रहे हैं.

    आजकल इन नकली भिक्षुकों के गिरोह हर तरफ चल रहे हैं जो हाथ पैरों को बड़ी चालाकी से अपने कपड़ों के अंदर छुपा लेते है. हम आपको जो वीडियो दिखा रहे इसमें चौमू रोड़ पर एक व्यक्ति है जो कि अपाहिज होने का दिखावा करके भीख मांग रहा लेकिन थोड़ी देर बाद वह अपना दूसरा हाथ शर्ट से निकालकर आम आदमी की तरह सामने चलता हुआ नजर आता है.

    तो जरूरत है हमें इस तरह के नकली भिखारियों से बचने की और असली नकली में पहचान करने की. ताकि आपके दिए हुए पैसे किसी ज़रूरतमंद तक पहुँच पाए
    जयपुर से हमारे युवा ग्राउंड रिपोर्टर सुरज्ञान मौर्य की रिपोर्ट

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here