Khudi Ram Bose की पुण्यतिथि पर उन्हें नमन, जिसने 18 साल की उम्र में अंग्रेज़ी हुकूमत को हिलाकर रख दिया

0
18
Khudiram Bose
Khudiram Bose

SURGYAN MAURYA
KHIRNI

भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन के सबसे युवा और निडर नेताओं में से एक Khudi Ram Bose की पुण्यतिथि पर उन्हें हमारी श्रद्धांजलि।
Khudiram bose एक बहादुर स्वतंत्रता सेनानी थे जिन्होंने हमारे देश की आजादी के लिए लड़ाई लड़ी और इसके लिए अपना जीवन लगा दिया। उनकी पुण्यतिथि पर लोग उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित कर रहे हैं और उनकी निडर भावना को याद कर रहे हैं।

Khudi Ram Bose मोहोबनी नामक एक छोटे से गाँव से था जो पश्चिम बंगाल के मेदिनीपुर (तत्कालीन मिदनापुर) जिले में स्थित था। Khudiram Bose का जन्म 3 दिसंबर 1889 को हुआ था।

बड़े होकर, उन्होंने कई कठिनाइयों का सामना किया। उन्होंने ६ साल की उम्र में अपनी माँ को खो दिया, और उनके पिता को सिर्फ एक साल बाद। जिसके बाद Bose कलकत्ता के बरिंद्र कुमार घोष जैसे क्रांतिकारियों के संपर्क में आए। वह तब स्वतंत्रता संग्राम में एक स्वयंसेवक बन गया जब वह सिर्फ 15 वर्ष का था।

उसी समय, अंग्रेजों ने उन्हें ब्रिटिश विरोधी प्रचार के साथ पर्चे बांटते हुए पकड़ लिया। जिसके बाद उसने अधिकारियों को निशाना बनाने के लिए पुलिस थानों के पास बम लगाकर खुद को और भी उलझा लिया।

क्रांतिकारी के पास एक निडर आत्मा थी और उसे मुजफ्फरपुर के जिला मजिस्ट्रेट डगलस किंग्सफोर्ड की हत्या के प्रयास के लिए जाना जाता है। 18 साल की उम्र में Bose और उनके दोस्त प्रफुल्ल चाकी ने जज की हत्या की योजना बनाई। उन्होंने एक गाड़ी पर बम फेंका, जिस पर उन्हें संदेह था कि वह उसे ले जा रही थी, हालांकि, उन्होंने गलती से दो महिलाओं को मार डाला। जिलाधिकारी फरार हो गए।

इस प्रयास के बाद अंग्रेज Bose और चाकी को पकड़ने के लिए निकल पड़े। हालांकि चाकी ने उनके पास पहुंचने से पहले ही खुद को गोली मार ली। Khudiram Bose को पकड़ा गया और उन पर मुकदमा चलाया गया। फिर उन्हें हत्या के प्रयास के लिए 18 साल की छोटी उम्र में फांसी दे दी गई।

Khudiram Bose सबसे कम उम्र के स्वतंत्रता सेनानियों में से एक थे जिन्होंने देश के लिए अपने प्राण न्यौछावर कर दिए। तब से अखबारों की रिपोर्ट में कहा गया है कि वह चेहरे पर मुस्कान लिए फांसी के फंदे पर चढ़ गया। बाद में, मुजफ्फरपुर जेल, जहां उन्हें मौत की सजा दी गई थी, का नाम उनके नाम पर रखा गया।

ऐसी ही ताजातरीन खबरों के लिए बने रहिए thebawabilat.in के साथ

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here