What is the true meaning of Independence

0
45

दिव्यादित्य सिंह

जयपुर. इस रविवार को हमारा देश भारत अपना 74वा स्वतंत्र दिवस मनाने जा रहा है। इन 74 सालों के हमारे देश ने कई ऊंचाइयां हासिल की हैं। कई लोग ऐसे रहे हैं जिन्होंने देश का नाम दुनिया भर में रोशन किया है, अब उन सबका नाम लेने बैठे तो 75वा स्वतंत्र दिवस आ जाएगा। इन सब के बीच एक सवाल ये भी उठता है कि क्या हम पूरी तरह से आजाद हैं। अंग्रेजों को हुकूमत से तो हमे आज़ादी मिल गई, लेकिन आज़ादी मतलब क्या है। आज़ादी की कोई परिभाषा नहीं है। हर किसी के लिए आज़ादी के लिए अपने अलग मायने हैं। अब इसका मतलब ये भी नहीं कि हम अपनी आज़ादी के लिए दूसरों को कष्ट पहुंचाएं। आज़ादी का हक सबको है। लेकिन उसके लिए किसी दूसरे व्यक्ति की आज़ादी के साथ खिलवाड़ करना सही नहीं है। आज़ादी के कई साल बाद आज भी कई चीज़ें ऐसी हैं जो हम सोचने पर मजबूर करदेती हैं की हम पूरी तरह से आज़ाद हैं या नहीं। जिसके पास अच्छी नौकरी है या ज्यादा पैसे हैं, उसे कई सारी सुविधाएं आसानी से मिल जाती हैं। वहीं आम आदमी को छोटी छोटी सुविधाओं के लिए संघर्ष करना पड़ता है। आज भी कई इलाके ऐसे हैं, जहा लड़कियां अकेले जाने से डरते हैं। आज भी कई जगहों पर आपको आपके रंग,रूप, जाती, धर्म के आधार पर आंका जाता है। कहने को तो ये देश है। लेकिन अगर कोई आम आदमी किसी नेता या राजनीतिक पार्टी के विरोध में बोले तो उसे सार्वजनिक तौर पर पीटा जाता है और जलील किया जाता है। अगर कोई केंद्र सरकार की नीतियों का विरोध करे तो उसे देश द्रोही गोषित कर दिया जाता। वही कोई सरकार को नीतियों का पक्ष ले तो वह सरकार का चेला माना जाता है। यहां हर बात को राजनीतिक तरीके से जोड़कर उसका पूरा अर्थ बदल दिया जाता है। किसी को भी अपनी राय रखने से पहले सोचना पड़ता है। तो इसका मतलब अब हम अपनी मनमानी करने लग जाएं? जिसके साथ जैसा व्यवहार करना है करें, जिसे जो बोलना है बोलें भले ही इससे उसे शारीरिक या मानसिक रूप से असर पड़े ? आज़ादी का यह मतलब नहीं है। हम अपनी बात सरल तरीके से भी के सकते हैं, बिना हिंसा के। साथ ही देश में बदलाव लाने के लिए जरूरी है कि सबसे पहले खुद में बदलाव लाया जाए। हम बदलेंगे तभी हम अपने आप पास k लोगों को प्रेरित कर पाएंगे।
जय हिंद
HAPPY INDEPENDENCE DAY

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here